टैक्स चोरी के शक में रायपुर के 5 कारोबारियों के ठिकानों पर IT की छापेमारी, हुए कई खुलासे

रायपुरः टैक्स चोरी के शक में आयकर विभाग ने बुधवार को राजधानी रायपुर के 5 कारोबारियों के ठिकानों पर एक साथ छापेमार कार्रवाई की, जो कि अभी भी जारी है. इस छापेमार कार्रवाई में विभाग ने रियल एस्टेट, गुटखा और इंस्पात के बड़े कारोबारियों के ठिकानों पर एक साथ दबिश दी, जिसमें अभी तक हजारों करोड़ के अवैध निवेश और फर्जी कंपनियों का खुलासा हो चुका है. वहीं 3.75 करोड़ की ज्वेलरी भी आयकर विभाग ने सीज की है. विभाग ने अग्रवाल-वाधवानी समूह के 26 से ज्यादा आवसीय परिसरों में जांच की है, जिसमें 50 करोड़ के अवैध निवेश का खुलासा हुआ है. इसके अलावा 12 में से 9 बोगस कंपनियों का भी खुलासा इस जांच में हुआ है. यही नहीं वाधवानी-अग्रवाल समूह के मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में कई बड़ी प्रॉपर्टीज के दस्तावेज भी मिले हैं.

बता दें आयकर विभाग की इस छापेमार कार्रवाई से पूरे मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के बड़े कारोबारियों में हड़कंप मचा हुआ है. रायपुर और जबलपुर की संयुक्त टीम की इस कार्रवाई में विभाग ने बुधवार की देर रात 50 ठिकानों पर एक साथ छापा मारा. मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के अलग-अलग शहरों में यह कार्रवाई आज भी जारी रहेगी. अग्रवाल समूह के जिन ठिकानों पर कार्रवाई चल रही है, उनमें एम एस एंगल्स, एम एस चैनल्स, बिलेट फैक्ट्रियां शामिल हैं.

वहीं वाधवानी समूह के भी आधा दर्जन ठिकानों पर कार्यवाई चल रही है. वाधवानी समूह की रायपुर में आइसक्रीम फैक्ट्री है, जिनके आवास सफायर ग्रीन, चौबे कॉलोनी आउट वल्फोर्ट के ठिकानों पर छापा पड़ा है. छापामार टीम में 200 से ज्यादा अधिकारी शामिल हैं, कार्रवाई को बेहद गुप्त रखा जा रहा है. बताया जा रहा है कि आयकर विभाग के अधिकारियों ने यहां कई दस्तावेजों की पड़ताल की है, जिसमें बड़े पैमाने पर आय से अधिक संपत्ति का खुलासा हुआ है. इसके अलावा और कई खुलासे होने की संभावना जताई जा रही है. विभाग ने जिन कंपनियों पर छापा मारा है, उनका टर्नओवर 90 करोड़ से ज्यादा बताया जा रहा है.

Comments are closed.