पश्चिम बंंगाल: एक ब्रिज का दो बार उद्घाटन! राज्य सरकार ने कर दिया, 30 को रेल मंत्री करेंगे

कोलकोता: रेलवे (Railway) ने अनुमति नहीं दी लेकिन इसके बावजूद वर्धमान ( Bardhaman) स्टेशन के पास नवनिर्माणित रेलवे ब्रिज का उद्घाटन मंगलवार को राज्य सरकार द्वारा कर दिया गया.  राज्य सरकार द्वारा इस कार्यक्रम  में पंचायत मंत्री सुब्रत मुख़र्जी उपस्थित रहे

सोमवार शाम को जिला प्रशासन की तरफ से DM विजय भर्ती समेत अन्य अधिकारियो ने इस रेलवे ब्रिज का जाएजा लिया.  साल 1996 में वाम सरकार के ज़माने में रेलवे स्टेशन के ऊपर इस सेतु को बनाने की अनुमति मिलने के बाद भी कई सालों इस ब्रिज का काम शुरू नहीं हुआ था और उसके बाद साल 2011 में एशिया के इस अनोखे ब्रिज का काम शुरू हुआ .

फिलहाल इस तरह का रोप ब्रिज केवल मुंबई में बनाया गया है. वर्धमान का ये ब्रिज 188.43  मीटर लम्बा है और रेलवे लाइन के ऊपर करीब साढ़े 6 फिट की लंबाई वाले केवल दो पिलर के सहारे ये रोप ब्रिज बनाया गया है जो करीब करीब हावड़ा ब्रिज जैसा ही दिखता है .

करीब एक साल पहले इस रोप ब्रिज का निर्माण का काम ख़त्म हुआ है और यहां से 5 अलग-अलग दिशाओ में एप्रोच रोड तैयार किए गए . हाल ही में इस ब्रिज से भारी वाहनों के आवाजाही पर रोक लगा दी गई है. प्रशासन की तरफ से कहा गया कि अभी कुछ छोटी मोटी चीज़े बाकी है जैसे रेड लाइट , बिजली के खम्बे लगाना इत्यादि .

इस बीच DM ने घोषणा कर दी की मंगलवार को इस ब्रिज का उद्घाटन कर दिया जाएगा और यही से शुरू हुआ विवाद. अभी तक कोई ट्रायल रन भी नहीं हुआ और न ही सिग्नलिंग न ही कोई स्ट्रीट लाइट यहां पर लगाई गई है तो फिर अचानक क्यों प्रशासन ने इसके उद्घाटन का फैसला कर लिया ?

इसके साथ-साथ 30 सितंबर को केंद्रीय रेलवे मंत्री पियूष गोयल इस रोप ब्रिज का उद्घाटन करने आ रहे है . बताया जा रहा है की मंगलवार को होने वाले उद्घाटन में रेलवे का कोई भी प्रतिनिधि मौजूद नहीं रहेगा . पूर्वी रेलवे के जनसम्पर्क अधिकारी निखिल चक्रवर्ती ने टेलीफोन पर बताया की इस पूरे विषय को लेकर के रेलवेवे के पास कोई जानकारी ही नहीं है .

इस बारे में जब DM विजय भारती से हमने पूछा की क्या मंगलवार को इसका उद्घाटन होना है तो उन्होंने कहा की उद्घाटन होने की बता तो है लेकिन अभी तक लिखित रूप से उनके पास कोई सुचना नहीं है. मंगलवार को हम यहाँ इंस्पेक्शन के लिए आए थे क्योंकि दुर्गा पूजा के पहले इसके उद्घाटन का फैसला हमने किया था और रेलवे को हमने सूचित किया है. रेलवेवे या फिर राज्य सरकार इसके बारे में जो फैसला करेंगे हम वहीं करेंगे.

साथ ही उन्होंने यह भी कहा की इस ब्रिज को बनाने में राज्य सरकार ने भी लगभग उतने ही पैसे लगाए है जितना केंद्र सरकार ने. जहां तक फ्लाईओवर के उद्घाटन की बात है यह कहना मेरे दायरे में नहीं आता की इसका उद्घाटन कौन करेगा . साथ ही DM ने इन आरोपों को भी खारिज किया जिसमें पूछा गया था की रेलवे को इसके बारे में कोई जानकारी ही नहीं है . DM ने कहा की रेलवे के साथ हर रोज़ बात हो रही है .

वर्धमान के पुल उद्घाटन ने अब दूसरा रूप ले लिया है . मंगलवार को प्रशासन द्वारा रेलवे ब्रिज के उद्घाटन की घोषणा होने के बाद आज ब्रिज के ऊपर बैरिकेड लगा दी गई रेलवेवे अधिकारियो द्वारा . साथ ही कुछ पोस्टर भी लगा दिए गए जिनमें लिखा है सेतु निर्माण कार्य जारी है और यहां पर आवाजाही पर मना है . निर्देश न मानने पर जेल और जुर्माना हो सकता है.

बैरिकेड में भी नोटिस लगा दिया गया है जिसमे लिखा है की 30 सितंबर को सेतु का उद्घाटन होगा जिसमे रेलवे मंत्री पियूष गोयल उपस्थित रहेंगे. राज्य सरकार को भी आमंत्रण दिया गया है. उधर उद्घाटन के लिए मंच निर्माण कार्य ज़ोरो पर है.

आखिरकार पीडब्ल्यूडी कर्मियों द्वारा ओवरब्रिज बैरिकेड को खोल दिया गया. हालांकि पीडल्ब्यूडी अधिकारी इस बारे में कुछ भी बोलने से बचते रहे . कुछ देर के बाद ही  पंचायत मंत्री सुब्रत मुख़र्जी ने इस पल का उद्घाटन कर दिया .

Comments are closed.