बीकानेर के पीबीएम अस्पताल का औचक निरीक्षण, 5 चिकित्सक मिले नदारद

जयपुर। बीकानेर स्थित पीबीएम अस्पताल में विभिन्न व्यवस्थाओं को सुचारू रखने के लिए अब राजस्थान प्रशासनिक सेवा के चार वरिष्ठ अधिकारी लगातार अलग-अलग दिन अस्पताल का निरीक्षण करेंगे। अधिकारी निरीक्षण के बाद व्यवस्था से जुड़ी रिपोर्ट प्रतिदिन जिला कलक्टर को प्रस्तुत करेंगे। यह निर्देश रविवार को जिला प्रभारी मंत्री एवं अल्पसंख्यक मामलात मंत्री शाले मोहम्मद ने अस्पताल का औचक निरीक्षण करने के बाद दिए।

प्रभारी मंत्री ने अस्पताल के औचक निरीक्षण के दौरान कार्यवाहक अधीक्षक से चिकित्सकों की उपस्थिति पंजिका और बायोमेट्रिक मशीन का रिकॉर्ड मांगा। प्रभारी मंत्री द्वारा उपस्थिति पंजिका का अवलोकन करने पर पांच चिकित्सक अनुपस्थित मिले। प्रभारी मंत्री ने चिकित्सकों की अनुपस्थिति का कारण पूछने पर सामने आया कि तीन चिकित्सक लंबे समय से अनुपस्थित चल रहे हैं, जबकि डॉ. गरिमा शर्मा और दिलीप सियाग आज ही अनुपस्थित हैं। प्रभारी मंत्री ने अस्पताल की व्यवस्थाओं को दुरुस्त करने के निर्देश दिए।

उन्होंने कार्यवाहक अधीक्षक डॉ. परमेंद्र सिरोही को निर्देश दिए कि पलंग पर गंदे गददे-चादर और परिसर में फैली गंदगी के लिए जिम्मेदार कार्यकारी एजेंसी और अधिकारी को कारण बताओ नोटिस जारी किया जाए। साथ ही संबंधित के विरुद्ध सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाए। उन्होंने कहा कि प्रदेशभर में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएं बेहतर रहें और राजकीय चिकित्सालय में आने वाले सभी रोगियों को गुणात्मक चिकित्सा सुविधा मिले, इसे लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बहुत संवेदनशील हैं। हमें मुख्यमंत्री की भावनाओं के अनुसार कार्य करते हुए आने वाले रोगियों को समस्त सुविधाएं देने और निःशुल्क जांच और दवा की बेहतर उपलब्धता सुनिश्चित करनी चाहिए।

प्रभारी मंत्री ने कार्यवाहक अधीक्षक को सख्त निर्देश दिए कि अस्पताल के मुख्य भवन सहित विभिन्न वार्डों और दूसरे स्थानों पर प्रतिबंधित गुटके का उपयोग नहीं हो। मरीजों के साथ आने वाले व्यक्ति भी अस्पताल परिसर में प्रतिबंधित पॉलिथीन और गुटके नहीं ला सकें। उन्होंने कहा कि वार्ड की सुरक्षा में लगे सुरक्षाकर्मी इस बात का पूरा ध्यान रखें। उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति सामान लेकर प्रवेश कर रहा है, उसकी जांच करें और सुनिश्चित करें कि वह प्रतिबंधित पॉलिथीन की थैली नहीं लाए। उन्होंने कहा कि वार्डों में प्रतिबंधित थैली एवं गुटके पाये जाने पर सुरक्षा गार्ड के विरूद्ध कार्यवाही की जाए। उन्होंने कहा कि अस्पताल परिसर में गुटखा थूकने तथा गुटके के खाली पाउच फेंकने वालों के विरूद्ध भी कार्यवाही की जाए।

Comments are closed.