मोदी-शाह पर दिया भड़काऊ बयान, बीजेपी ने दर्ज कराया केस

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेता एच राजा ने तमिल स्कॉलर नेल्लई कन्नन के खिलाफ मामला दर्ज कराया है. बीजेपी का दावा है कि नेल्लई कन्नन मुसलमानों को भड़काने और पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह की हत्या का सुझाव दे रहे थे.

दावा किया जा रहा है कि नेल्लई कन्नन ने कहा कि मोदी के पीछे अमित शाह का दिमाग है. अगर अमित शाह नहीं होते तो मोदी यहां नहीं होते. अगर अमित शाह की कहानी खत्म हो जाएगी, तो पीएम मोदी की कहानी भी खत्म हो जाएगी.

तमिल स्कॉलर नेल्लई कन्नन ने कहा कि मुझे उम्मीद थी कि कुछ होगा, लेकिन कोई भी मुस्लिम कुछ कर नहीं रहा . हालांकि यहां पर खत्म का मतलब राजनीतिक करियर से भी और मारने से भी सकता है.

बीजेपी अब नेल्लई कन्नन के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रही है. नेल्लई कन्नन ने यह बातें एनआरसी के खिलाफ आयोजित एक सभा में कही.

देशभर में हो रहा विरोध प्रदर्शन

नागरिकता कानून के खिलाफ देशभर में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. प्रदर्शनकारी लगातार नागरिकता संशोधन कानून को वापस लेने की मांग कर रहे हैं. उनका कहना है कि इस कानून के बहाने देश को बांटने की कोशिश की जा रही है. लेकिन इन मांगों के बीच सरकार अपने रुख पर कायम है.

गृह मंत्री अमित शाह कह चुके हैं कि विपक्ष को जो राजनीतिक विरोध करना है वो करे. बीजेपी और मोदी सरकार अपने फैसले पर अडिग है.

क्या है नागरिकता कानून?

पाकिस्तान, अफगानिस्तान या बांग्लादेश से आए हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध, पारसी, ईसाई शरणार्थियों के लिए भारत की नागरिकता पाना सरल हो गया है. लेकिन किसी और देश के हिंदुओं के लिए भी भारत की नागरिकता पाना आसान नहीं हुआ है.

बता दें कि केवल धार्मिक तौर पर प्रताड़ित तीन देशों के अल्पसंख्यकों पर ये कानून लागू है. दूसरे देशों के अल्पसंख्यकों को मिल रही रियायत को सरकार माइनॉरिटी वेलफेयर के तौर पर देखने की बात कर रही है. मिसाल के तौर पर भारत में चल रही माइनॉरिटी वेलफेयर योजनाओं का जिक्र कर रही है.

Comments are closed.