50 करोड़ की हेरोइन के साथ तस्कर लड़की और नाइजीरियाई गिरफ्तार

नई दिल्ली । दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने 12 किलोग्राम हेरोइन जब्त की है। जब्त हेरोइन की कीमत अंतर्राष्ट्रीय बाजार में करीब 50 करोड़ रुपये बताई जा रही है। इस सिलसिले में पुलिस ने एक लड़की और एक विदेशी सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया है।

यह जानकारी मंगलवार को दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल के पुलिस उपायुक्त प्रमोद कुमार सिंह कुशवाहा ने आईएएनएस को दी। मादक पदार्थ के साथ गिरफ्तार तस्करों का नाम अनुभव दुशाद उर्फ विक्की (35) निवासी मुनिरका गांव दिल्ली, रेनुका (27) मूल निवासी भोपाल और हाल निवासी मदनपुर खादर दिल्ली तथा गिरफ्तार तीसरे नाइजीरियाई मूल के निवासी मादक पदार्थ तस्कर का नाम क्रिस्ट जोले (28) है। जोले कई साल पहले पर्यटक वीजा पर नाइजीरिया से भारत आया था। उसके बाद यहीं छिपते-छिपाते रहने लगा।

डीसीपी कुशवाह ने आगे बताया, “अनुभव के कब्जे से 7 किलोग्राम, रेनुका के कब्जे से 3 किलोग्राम और जोले के कब्जे से 2 किलोग्राम उच्च क्वालिटी की हेरोइन बरामद की गई है। मादक पदार्थ तस्करी में लिप्त इस अंतर्राष्ट्रीय गिरोह का भंडाफोड़ दिल्ली पुलिस द्वारा चलाये जा रहे विशेष अभियान के तहत किया गया है। यह गिरोह राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली सहित देश के अन्य कई राज्यों में भी हेरोइन जैसे घातक मादक पदार्थ की तस्करी करता था।”

डीसीपी स्पेशल सेल के मुताबिक, गिरोह के पदार्फाश के लिए कई महीने से इंस्पेक्टर ईश्वर सिंह की टीम लगी हुई थी। 14 दिसंबर 2019 को स्पेशल सेल की टीम को अनुभव के नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के करीब पहुंचने की खबर मिली। इस सूचना के आधार पर स्पेशल सेल टीम में शामिल सब इंस्पेक्टर रंजीत सिंह, संजीव, सहायक उप-निरीक्षक बलराज, हवलदार नवीन, देवेंद्र, सजीत, सिपाही दीपक, सचिन स्टेशन के आसपास सादा लिबास में छिप गए। जैसे ही तस्कर अनुभव और महिला तस्कर रेनुका के बीच ड्रग्स का लेनदेन हुआ, पुलिस टीम ने दोनो को दबोच लिया। दोनों के पास से करीब 10 किलोग्राम हेरोइन जब्त की गई।

रेनुका और अनुभव ने पुलिस को बताया कि उनका गिरोह पिछले दो साल से मादक पदार्थों की तस्करी राष्ट्रीय राजधानी और पंजाब में कर रहे थे। अनुभव से मिली जानकारी के आधार पर पुलिस ने नाइजीरियाई मूल के तीसरे ड्रग तस्कर क्रिस्ट जोले को भी गिरफ्तार कर लिया। जोले के पास से 2 किलोग्राम हेरोइन मिली। जोले को दिल्ली के शिव विहार इलाके से पकड़ा गया। जोले ने पुलिस को बताया कि वह अफगानिस्तान के एक तस्कर से ड्रग मंगाता था। जोले ने सबसे बड़ा खुलासा यह भी किया है कि उसका गिरोह फ्रांस, इटली, कनाडा, युनाइटेड किंगडम, यूएई में भी हेरोइन की तस्करी करता था।

अनुभव का जन्म सन् 1984 में राजस्थान के अजमेर में हुआ था। 12 साल पहले वह दिल्ली आ गया। यहां उसने मुनिरका गांव में रहना शुरू कर दिया। उसने गुरुग्राम स्थित एक विवि से एचआर में स्नातक किया। कुछ समय तक इंश्योरेंस एजेंट के बतौर काम किया। 3-4 साल पहले उसे मादक पदार्थ इस्तेमाल करने की लत लग गई। जब वो जोले के संपर्क में आया तो उसने मादक पदार्थों की तस्करी का काला कारोबार शुरू कर दिया।

गिरोह की मुख्य सदस्य और हेरोइन को आसानी से इधर से उधर पहुंचाने की काबिलियत रखने वाली रेनुका का जन्म 1992 में भोपाल में हुआ था। 6 साल की उम्र में रेनुका अपने एक रिश्तेदार के पास दिल्ली आ गई। दिल्ली में ओपन स्कूल से रेनुका ने हाईस्कूल किया। जेब खर्च निकालने के लिए उसने एक कॉल-सेंटर में भी नौकरी की। दो साल पहले रेनुका जब अनुभव के संपर्क में आई तो उसने भी यह गंदा धंधा शुरू कर दिया।

बारहवीं पास जोले साल 2016 में नाइजीरिया से पर्यटक वीजा पर 6 महीने के लिए भारत आया था। उसके बाद यहीं का होकर रह गया। भारत में कुछ समय उसने कपड़ों का कारोबार किया। बाद में उसने अनुभव के साथ मिलकर मादक पदार्थो की तस्करी शुरू कर दी।

Comments are closed.